ब्बल टेलिस्कोप पर काम कर रही खगोल वैज्ञानिकों की टीम ने कहा है कि उन्होंने 130 मिलियन प्रकाश वर्ष दूर एक सुपरमैसिव ब्लैक होल के चारो ओर घूमती एक ऐसी मेटेरियल डिस्क की खोज की है जिसे असल मे वहां होना ही नही चाहिए। खगोल शास्त्रियों ने NGC 3147 आकाशगंगा के केंद्र स्थित इस ब्लैकहोल के आसपास ऐसी डिस्क होने की कल्पना नही की थी।इस आकाशगंगा को एक विलक्षण सुपरमासिव ब्लैक होल का एक महान उदाहरण माना जाता था,वह एक जो भारी मात्रा को मैटेरियल को कहते हुए ज्यादा घूर्णन नही करना चाहिए,एक डिस्क के साथ घूमता है।
फिर भी, जाहिर है, डिस्क मौजूद है। यह उसी तरह की डिस्क की तरह दिखता है जो – अन्य आकाशगंगाओं में ब्लैक होल के मामले में – जिनमे एक शानदार बीकन का उत्पादन देखा जाता है जिसे क्वासर कहते है।लेकिन यहाँ कोई क्वासर नहीं है। केंद्रीय ब्लैक होल शांत है। और इसलिए यह एक रहस्य है।इस अध्ययन के पहले लेखक, स्टेफानो बिआंची ,रोम(ट्विटर पर @astrobianchi) ने एक बयान में कहा:”जिस प्रकार की डिस्क हम इस ब्लैकहोल में देखते हैं, वह एक स्केल-डाउन क्वासर है जिसके हम मौजूद होने की उम्मीद नहीं करते थे। क्योकि यह उसी प्रकार की डिस्क है जिसे हम उन वस्तुओं में देखते हैं जो इससे 1,000 या 100,000 गुना अधिक चमकदार हैं। वही इससे बहुत धुंधली सक्रिय आकाशगंगाओं के मामले में गैस गतिकी के वर्तमान मॉडलों की भविष्यवाणियाँ स्पष्ट रूप से विफल होती है।”फिर भी टीम इस खोज को लेकर उत्साहित है। यह उन्हें ब्लैक होल की भौतिकी और उनके डिस्क को अधिक अच्छी तरह से जानने का मौका देता है।इसके अलावा, उन्होंने कहा :”यह अल्बर्ट आइंस्टीन के सापेक्षता के सिद्धांतों का परीक्षण करने का एक अनूठा अवसर है। जो सामान्य सापेक्षता गुरुत्वाकर्षण का वर्णन अंतरिक्ष की वक्रता के रूप में करता है और विशेष सापेक्षता समय और स्थान के बीच संबंध का भी।”खगोलविदों ने शुरू में NGC 3147 को समझने के लिए उनआकाश गंगाओं के स्वीकृत मॉडल को ही चुना था जिनमे अल्पाहारिक ब्लैकहोल पाए जाते है।

अध्ययन में शामिल खगोलविदों में से एक – इज़राइल के हाइफा स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के खगोलशास्त्री अरी लॉर – ने एक बयान में टिप्पणी की:हमने सोचा था कि यह पुष्टि करने के लिए सबसे अच्छा उम्मीदवार होगा कि कुछ ल्युमिनेस्टीज के नीचे, अभिवृद्धि डिस्क अब मौजूद नहीं है।परन्तु हमने जो कुछ देखा वह पूरी तरह से अप्रत्याशित था। हमने जो देखा उसे फिलहाल हम गैस के मोशन प्रोड्यूसिंग फीचर्स के द्वारा पतली घूमने वाली डिस्क के रूप में ही समझा सकते है,(जोकि काफ़ी नही है)।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here