रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (ROC) के आंकड़ों के मुताबिक, सचिन बंसल ने पूर्व निवेश बैंकर अंकित अग्रवाल के साथ मिलकर एक गैर -सरकारी निजी कंपनी “BAC Acquisitions Pvt. Ltd.” को 10 दिसंबर को लॉन्च किया है। जबकि इनके नए व्यापार की प्रकृति अभी तक स्पष्ट नही है कि इनका नया व्यापार क्या है। फिर भी इनकी कंपनी BAC Acquisitions एक होल्डिंग कंपनी की तरह प्रतीत हो रही है।

वालमार्ट इस वर्ष की शुरुआत में ही फ्लिपकार्ट को खरीद कर जल्द से जल्द $16 बिलियन की दौड़ में आ गया। और एक सफल स्टार्टअप का यूनिकॉर्न बना लिया। कंपनी के सह-संस्थापक और तत्कालीन कार्यकारी अध्यक्ष सचिन ने फ्लिपकार्ट को उसके 5.5% स्टाक, 800 मिलियन डॉलर से 1 बिलियन डॉलर तक की बिक्री के बाद छोड़ दिया। तब से ही रिपोर्ट सामने आई है कि कंपनी के अधिग्रहण(बिकने) के बाद सचिन को कथित रूप से फ्लिपकार्ट को छोड़ने के लिए मजबूर किया गया था।

नवंबर में, सचिन के प्रस्थान के कुछ ही महीने बाद, सह-संस्थापक बिन्नी बंसल ने भी ‘व्यक्तिगत दुर्व्यवहार’ के कारण फ्लिपकार्ट को छोड़ दिया। फ्लिपकार्ट का निर्माण करने वाले दो लोगों के एक के बाद एक बाहर निकलने के कारण भारतीय इकोसिस्टम में उथल-पुथल सी शुरू हो गयी।

एक दशक से भी ज्यादा से, फ्लिपकार्ट को भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम का झंडा माना जाता था। फ्लिपकार्ट को बनाने वाली संस्थापक जोड़ी, सचिन और बिन्नी जिन्होंने ऑनलाइन बुकसेलर के रूप में अपना जीवन शुरू किया था, उन्होंने कंपनी के विकास के साथ-साथ कई व्यवसायी स्कोर भी बनाए है।

जैसा कि हमने अभी बताया है कि कई मायनों में, फ्लिपकार्ट के विकास ने देश के स्टार्टअप इकोसिस्टम को एक अच्छा आकार दिया है और निवेशकों के लिए ब्याज के प्रमुख बाजार के रूप में भारत की सीमा में ही सीमित कर दिया।
सचिन और बिन्नी दोनों को हमेशा एकजुट कार्य करने के लिए जाना जाता था, सचिन को बुद्धिमान और बिन्नी को प्रबंधक(मैनेजर) माना जाता था।

यह कहानी चंडीगढ़ के उन दो किशोर लड़कों की थी, जिन्होंने भारतीय स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र की सबसे बड़ी सफल कहानियों में से एक को लिखा था। उन्होंने दुनियाभर के पारिस्थितिक तंत्र के खिलाड़ियों को अपना ध्यान भारत पर केंद्रित करने के लिए मजबूर किया – और विशेष रूप से, बाजार में हो रहे अत्यधिक विकास के अवसरो और संभावनाओ पर ।

जब अब सचिन फिर से वापिस आ गए है, तो ऐसे में यह देखना काफी दिलचस्प होगा कि सचिन की नई कंपनी का व्यापार क्या हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here