नासा का एक नया सेटलाइट जिसका उपयोग अंतरिक्ष मे नये ग्रहो की खोज के लिए किया जाता है। वह अपनी एसाइन्ड ऑर्बिट की ओर तेजी से बढ़ता हुआ दिखाई पड़ रहा है। वह अपने आख़िरी मिशन को शुरूआत करने से पहले अपने चारों ओर दिखने वाली सभी तस्वीरों को एक यादगार पल की तरह अपने कैमरे मे केद कर रहा है। नासा के TESS स्पेस क्राफ्ट – ट्रांजीशन एक्सोप्लेनेस सर्वे सॅटॅलाइट  भी अब उन सब सेटलाइट मे से ही एक बन गया है, जिसने अंतरिक्ष मे होने वाले पलों की बेहतरीन तस्वीरों को कैमरे मे केद किया है। नासा ने बताया है, की उन्होंने टेलीस्कोप के 4 प्रभावशाली कैमरों से जो अंतरिक्ष की खूबसूरत तस्वीर ली है। उसमे करीब 200,000 तारे शामिल है। लेकिन यह सितारों की संख्या तो इस खोज का सिर्फ एक छोटा सा हिस्सा है। असल काम जो नासा वाले करना चाहते है, वह इस बात की खोज करना है, की क्या अंतरिक्ष मे सच मे एलियंस का होना संभव है। नासा ने यह भी बताया है, सेटेलाइट के चारों कैमरे के माध्यम से जो तस्वीर ली गयी है। उसमे 400 आकाशगंगा शामिल है। अगले मिशन मे इस बात की खोज की जायेगी की आकाशगंगा मे उपस्थित इन सभी ग्रहों मे क्या सच मे किसी दूसरे जीवन के होने की संभावना है। सैटेलाइट को ट्रांजिट मेथड का उपयोग करके नये ग्रहो की तलाश करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह सेटेलाईट ऐसे ग्रहो को खोजता है, जहा पर जीवन की संभावना हो और यह TESS सेटेलाइट का जो मुख्य काम है, वह यह है, की यह प्रकाश में उस पल को मिनट के लिए देख लेगा जब एक ग्रह अपने होस्ट स्टार के सामने गुजरता है। और उसकी अपने चार बेहतरीन कैमरो के माध्यम से तस्वीर निकाल लेगा।

इन ट्रांसइटस का पता लगाकर, TESS इन दुनिया की ओर्बिट्स के बारे मे जान सकता है, की किसी ग्रह मे जीवन या किसी और प्राणी के होने की संभावना है, या नही। कुल मिलाकर, सैटेलाइट्स के फील्ड ऑफ़ व्यू में लगभग 20 मिलियन सितारे शामिल होंगे जो सभी अनजान दुनिया के होस्ट सितारे हो सकते हैं। विशेषज्ञो का मानना ​​है, कि TESS कम से कम 20 ग्रहों को खोजने में सक्षम होगा जो पृथ्वी की लंबाई के जितने हो सकते हैं।TESS वैज्ञानिक नतालिया ग्वेरेरो ने एक बयान में कहा, “TESS एक स्काउट की तरह है। उनका कहना है, की “हम पूरे आकाश के इस खूबसूरत ट्रिप पर हैं, और कुछ मायनों में हमें भी नहीं पता कि हम क्या देखेंगे। ऐसा लगता है, कि हम एक खज़ाने का मैप बना रहे है। हमारे सोलर सिस्टम के बाहर के ग्रहों को उत्सुकता से बाहर निकालने के लिए TESS  के पास अभी भी कुछ तरीके हैं।

जून में वैज्ञानिकों ने यह सुनिश्चित करने के लिए जांच की है, कि उसके इंस्ट्रूमेंट्स वर्किंग आर्डर में हैं, या नही।

वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि नासा के जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप, 2020 में लॉन्च होने की उम्मीद मे है, वे TESS द्वारा पृथ्वी पर भेजे गए कुछ रिजल्ट्स पर फॉलो अप करने में सक्षम होंगे।

शक्तिशाली दूरबीन

अंतरिक्ष के सक्सेसर के रूप में डिज़ाइन किया गया है – यह उनकी कम्पोजीशन और एबिलिटी के बारे में और जानने के लिए तैयार की गयी है। ओर यह दूरबीन यह भी जानने की कोशिश करेगी की एलियन की दुनिया या किसी अन्य गढ़ पर जीवन की क्या संभावनाएं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here