“समय मे यात्रा” मेरे पसंदीदा विषयो में से एक है, हमसब जूनियर हाइस्कूल में समय यात्रा के बारे में कुछ कहानिया लिखी थी जिसमे समय मे यात्रा करने के लिए अपने स्वयं के द्वारा अविष्कार की गई मशीन का इस्तेमाल किया गया था। साल गुजरते गए, और मैने इस आकर्षण अवधारणा के बारे में अपना अध्यन जारी रखा।

हम सब समय मे यात्रा करते है। पिछले वर्ष के दौरान, मैं एक वर्ष आगे बढा हूँ और आज आपके पास हूं। अगर दूसरे तरीके से कहे तो हम सब समय मे एक घण्टे प्रति घण्टा की रफ्तार से यात्रा कर रहे है। पर अब सवाल ये उठता है कि क्या हम समय मे एक घण्टा प्रति घण्टा की बजाय तेज ओर धीमी गति से भी यात्रा कर सकते है ? या फिर समय मे पीछे यात्रा कर सके, वो भी 2 घण्टे प्रति घण्टा या 10 वर्ष या 100 वर्ष प्रति घण्टा की रफ्तार से।

समय यात्रा के बारे मे सोचने पर मन मे एक संदेह होता है। क्या होगा अगर आप समय मे पीछे जाकर अपने माता -पिता को ही मिलने से रोक दो उनकी शादी ही न होने दो, पर अगर ऐसा हुआ तो आपका जन्म भी नही होगा और आप समय मे पीछे भी नही जा पाओगे और न ही अपने माता पिता से मिल सकोगे।

20 वीं सदी के महान वैज्ञानिक “अल्बर्ट आइंस्टीन” ने विशेष सिद्धान्त दिया।

विशेष सापेक्षता के विचारों को कल्पना करना बहुत कठिन है क्योंकि ये हमारी रोज की जिंदगी में हमारे अनुभव के बारे में नही है पर वैज्ञानिको ने उनकी पुष्टि की है। इस सिद्धात के अनुसार: स्पेस ओर टाइम दोनों एक ही चीज “स्पेस टाइम(समय स्पेस)” के पहलू है। स्पेस-टाइम के माध्यम से यात्रा करने वाली किसी भी चीज़ को 300,000 किलोमीटर प्रति सेकंड (या 186,000 मील प्रति सेकंड) की गति चाहिए। और प्रकाश खाली स्थान में हमेशा गति सीमा से यात्रा करता है।

विशेष सिद्धांत पर ये भी कहता है कि जब आप समय-स्पेस से यात्रा करते हो तो बहुत सी आश्चर्यचकित यानी अजीब घटनाएं होती है। खासतौर पर तब जब आपकी गति अन्य वस्तुओं की गति के मुकाबले प्रकाश की गति के ज्यादा करीब हो। समय आपके लिए धीमा हो जाता है उन व्यक्तियों के मुकाबले जिन्हें आपने पीछे छोड़ दिया है और जब तक आप उन स्थिर लोगों के पास नहीं लौटते, तब तक आप इस प्रभाव को नहीं देख पाओगे।

मान लो कि जब आप 15 साल के हो तब आपने एक अंतरिक्ष यान् में पृथ्वी को प्रकाश की रफ्तार का 99.5% गति ( जो कि हमारी सामान्य गति से बहुत अधिक तेज है) से छोड़ दिया और इस यात्रा के दौरान आपने अपने 5 जन्मदिन मनाएं। लेकिन जब आप 20 साल की उम्र में वापिस पृथ्वी पर आते हो तब आप पाओगे की आपके सभी साथी 65 साल के हो चुके होंगे और अपने बच्चो के साथ अपना जीवन व्यतीत कर रहे होंगे। क्योंकि तुम्हारे लिए समय बहुत धीमी गति से चल रहा था तो जितने समय मे तुमने 5 साल व्यतीत किये उतने ही समय में तुम्हारे सभी साथियों ने 50 साल व्यतीत कर लिए थे।

मतलब यदि आपने 2013 में अपनी यात्रा शुरू की होगी तो आपको 5 साल लगे होंगे 2053 में पहुचने के लिए जबकि आपके साथियों को इसमे 50 साल लगे है। यही एक रास्ता है समय में एक घण्टा प्रति घण्टा से ज्यादा की रफ्तार से यात्रा करने का। एक तरह की समय यात्रा गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र में वस्तुए भी करती है। आइंस्टीन के पास सामान्य सापेक्षता नामक एक ओर सिद्धांत था, जो भविष्यवाणी करता है कि समय ऐसे क्षेत्रों से दूर की वस्तुओं की तुलना में गुरुत्वाकर्षण क्षेत्रों (जैसे पृथ्वी पर) में वस्तुओं के लिए अधिक धीरे-धीरे से गुजरता है। इसलिए ब्लैक होल के पास सभी प्रकार के स्थान और समय विकृतियां हैं, जिस वजह से वहा गुरुत्वाकर्षण बहुत तीव्र हो सकता है।

पिछले कुछ वर्षों में, कुछ वैज्ञानिकों ने उन विकृतियों का इस्तेमाल अंतरिक्ष-समय में किया है, जिससे लगता है कि कुछ संभव तरीको से टाइम मशीन काम कर सकती हैं।

कुछ वैज्ञानिक “WormHoles” के विचार को पसंद करते हैं, जो स्पेस टाइम के माध्यम के मुकाबले शॉर्टकट हो सकता हैं। वास्तविक विज्ञान द्वारा अनुमत सभी समय यात्रा सिद्धांतों में, ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे कोई यात्री समय मशीन के निर्माण से पहले समय मे वापस जा सके।

मुझे पूरा विश्वास है कि भविष्य में समय यात्रा संभव है। परंतु हमे यह करने के लिए एडवांस टेक्नोलॉजी की आवश्यकता है। हम भविष्य में 10000 वर्ष की यात्रा एक वर्ष में कर सकते है। हालांकि, इस तरह की यात्रा से असाधारण मात्रा में ऊर्जा खर्च होती है। अतीत के लिए समय यात्रा बहुत कठिन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here