बात अगर ग्लोबल आईटी टेक वर्ल्ड कंट्रोलर की बात करे तो बात करे हमारे जहन में बिलगेट्स, टीम कुक, मस्क, जॉब्स ,जुकरबर्ग या जेफ बेजोफ जैसे नाम आते है । वहीं बात अगर भारतीयों की करे तो हम ज्यादा से ज्यादा पिचाई या फिर सत्य नाडाल जैसे एक दो ही नाम के पाते है,वो भी तब जब पूछने वाले ने भारतीय शब्द मोस्ट में कहा। मोस्ट यानी मुख्य से मेरा मतलब की ऐसे पूछा हो कि भारतीय ग्लोबल कंट्रोलर पर्सन के नाम बताओ और शायद ही केवल ग्लोबल टेक कंट्रोलर की बात पूछने पर किसी भारतीय का नाम ले। असल मे ये हमारी देसी मानसिकता बन गयी है कि अक्सर हम अपनो को दुसरो से कम ही आंकते है।

लेकिन मेरे दोस्त अगर आप आँख से ये पट्टी उतारोगे तो पाओगे कि जिन अपनो को आप कम आंकते है उन पर वे बड़ी इंडस्ट्री भरोसा जता रहे,जिनके ग्लोबल कार्य का हम रोज प्रयोग करते है और यही वो भारतीय है जिनके हाथ इन ग्लोबल इंडस्ट्रीज की कुंजी है।तो ऐसे ही कुछ भारतीयों के नाम और ग्लोबल पोज़िशन की जानकारी हम आपको दे रहे है,जिसे पढ़कर आप अपने भारतीय होने पर वाकई गर्व करेंगे।

08. संजय मल्होत्रा–

via

सैनडिस्क मेमोरी कार्ड तो आपमे से शायद हर किसी ने इस्तेमाल किया हो ,लेकिन क्या आपको पता है इसके CEO कौन है? नही ना! तो चलिए हम आपको बता देते है ,असल मे सैनडिस्क के CEO और Co-फाउंडर संजय मल्होत्रा हैं जोकि एक भारतीय है।संजय मल्होत्रा ने अपने शुरुआती साल राजधानी दिल्ली में बिताए,फिर कैलिफोर्निया शिफ्ट होने से पहले BITC पिलानी में भी अध्ययन किया।यो अगली बार कोई sandisc को चाइनीज कहे और अन्य चाइनीज माल की तरह उसकी विश्वसनीयता पर शक करे तो उसे बताना की sandisc अपनी है बे।

07. जॉर्ज कुरियन–

via

केरल में जन्मे कुरियन IIT मद्रास से ग्रेजुएट है। Akamai Technologies, McKinsey & Company और Oracle Corporation and Cisco से एक बेहतर अनुभव के बाद 2015 में इन्हें Net app का CEO नियुक्त किया गया।

06. राजीव सूरी–

via

फिनलैंड स्थित एक जमाने मे लोगो के दिलो पर राज कर चुकी नोकिया के वर्तमान CEO भी भारत से ही है,जो है राजीव सूरी। सूरी 1995 से ही नोकिया में सीनियर पोस्ट पर कार्यरत है ,जोकि 2014 में डूबती नोकिया के CEO बनाये गए और इसका असर दिखा भी क्योकि नोकिया अब फिर से किनारे आ गयी है।वही सूरी मनिपाल यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र है जो दिल्ली से आते है।

05. सत्य नाडाल

via

पमे से शायद ही कोई हो जिसने सत्य नाडाल का नाम ना सुना हो। मनिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के छात्र रह चुके नाडाल ने क्लाउड कंप्यूटरिंग को एक नई दिशा प्रदान की है और वो अब मौजूदा माइक्रोसॉफ्ट CEO है। इससे पहले नाडाल कम्पनी के क्लाउड कंप्यूटिंग और एंटर प्राइसेस ग्रुप को लीड करते हुए ,एक्सिक्यूटिव वाईस प्रेसीडेंट भी रह चुके है।

04. थॉमस कुरियन-

via

भारतीय मूल के अमेरिकन नागरिकता वाले थॉमस कुरियन पहले Oracke में प्रोडक्ट मैनेजर के तौर पर कार्यरत थे,जहाँ इन्होंने लगभग 22 साल का अनुभव प्राप्त किया।उसके बाद थॉमस ने Google Cloud के लिए CEO पद को संभाला ,जो कि वर्तमान में प्रौद्योगिकी के बिग डेटा का सबसे बड़ा केंद्र है।

03.  शान्तनु नारायण–

via

शहूर अमेरिकन सॉफ्टवेयर कम्पनी Adobe के CEO शांतनु नारायण पिछले लगभग 12 साल से अपने पद पर है ।वह ब्रांड पोर्टफिलिया में कई महत्वपूर्ण उत्पादों को जोड़ते हुए और अडोब को और अधिक ऊंचाइयों तक ले जाते हुए,दुनिया के सबसे अधिक पेड सीईओ के रूप में उभरे है।

02. नीलकेश अरोड़ा–

via

सॉफ्टबैंक के पूर्व प्रेसीडेंट और गूगल सायबरसिक्योरिटी के शीर्ष अधिकारियों में से एक के रूप में काम करने के उपरांत नीलकेश अरोड़ा ने Palo Alto Networks के CEO का पद संभाला। भारत से IIT स्नातक और भारतीय माकेटिंग की अच्छी जानकारी होना नीलकेश के लिए Palo Alto की इंडियन डील में काफी सहायक साबित हुआ। आज नीलकेश की टोटल वर्थ $128 मिलियन है,जोकि उन्हें दुनिया के टॉप CEO की लिस्ट में खड़ा करती है।

01. सुंदर पिचाई–

via

खिर पिचाई को कौन नही जानता? इनके बिना हमारी यह लिस्ट ठीक ऐसी है जैसे बिन नमक के सब्जी। क्योकि जैसे सब्जी में नमक जरूर याद होना चाहिये,वही अगर कोई हमसे भारत से टॉप ग्लोबल सीईओ को बात करे तो किसी नाम याद हो ना हो पिचाई का जरूर याद रहता है। मूल रूप से तमिलनाडु से आने वाले और खड़गपुर आईआईटी से पढ़ाई आईआईटी ने 2004 में गूगल को जॉइन किया और वर्ष 2015 में गूगल सीईओ का पद संभाला।जिसके बाद आज तक वह गूगल के सीईओ है । जो आज हम गूगल के नए प्रोडक्ट और क्रोम देख रहे है यह पिचाई की ही देन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here