बिजनेस और स्टार्टअप के बीच कुछ छोटे अंतर अगर बात बेसिक अंतर की करे तो हमे बिजनेस और स्टार्टअप में अंतर के रूप में अधेड़ और जवान दिमाग ही नजर आते है। जहां अधेड़ दिमाग बिजनेस और स्टार्टअप के लिए युवा दिमाग को प्रतीक के रूप में देखा जाता है।

लेकिन ये सब सिर्फ दिमागी हेरफेर की बात है,क्योकि स्टार्टअप और बिजनेस में सिर्फ इतना ही अंतर है कि हर स्टार्टअप बिजनेस होता है,परन्तु हर बिजनेस स्टार्टअप नही होता।जिनके बीच इस अंतर को हम इन कुछ हैडिंग्स से समझेंगे–

बिजनेस मॉडल

स्टार्टअप का प्रारूप असल मे किसी समस्या के हल के लिए होता है,जबकि अगर बात शुद्ध बिजनेस की हो तो यह सिर्फ लाभ के आंकलन पर चलता है।उदाहरण के तौर पर फ्लिपकार्ट ने अमेज़ॉन के नक्से कदम पर e–कॉमर्स बाजार को भारत मे खड़ा किया और देखते देखते भारत की लार्जेस्ट e-कॉमर्स वेबसाइट बन गयी।चूंकि यह एक स्थान पर विशेष सेवा मुहैया कराने का कार्य था अतः यह स्टार्टअप की श्रेणी में आता है।वही रिलायंस जियो ने चूंकि भारत मे एक बड़ा मुकाम हासिल किया है,परन्तु यह रिलायंस की टेलीकॉम सेवा का ही बढ़ता रूप था तो यह बिजनेस ही कहलायेगा।

फंडिंग

फंडिंग के नजरिये से इनमें एक खास अंतर होता है कि स्टार्टअप में पैसे को इन्वेस्टर या वेंचर कपेलिस्ट के रिस्क पर लगाया जाता है,वही लाभ युक्त बिजनेस के लिए लोन और अनुदान की मुख्य भूमिका होती है।जिसके कारण वेंचर कपेलिस्ट की कंपनी के हर मोमेंट पर खास नजर होती है,परन्तु बिजनेस में कर्जदाता का ध्यान सिर्फ उसके कर्ज तक ही सीमित होता है।

विकास दृष्टिकोण

ज्यादातर स्टार्टअप तेजी से वृद्धि के लिहाज से ही डिजाइन होते है,जिसमे सम्भावित लाभ ही अधिकतर होता है,परन्तु बिजनेस में आप पैसा लगा कर बाजार में उन्ही चीजो पर काम करते है जो पहले से ही मौजूद है।हालांकि भौतिक बाजार में स्टार्टअप की इतनी पहुंच नही बन पाती,यही कारण है कि ज्यादातर स्टार्टअप इंटरनेट आधारित ही होते है।

एग्जिट दृष्टिकोण

निकास रणनीति यानी एग्जिट दृष्टिकोण भी आपको परिभाषित करने का जरिया है,की यदि आप ऐसे व्यक्ति है जो अपनी योजना अपने तरीके से चाहता है तो यह एक बिजनेस नजरिया है।परन्तु स्टार्टअप चूंकि वेंचर कैपिलिस्ट पर निर्भर है और जाहिर सी बात है हर क्षेत्र में उनका दबदबा रहता है तो आपको यहॉं उनके ऐसे संकेत के लिए भी तैयार रखना चाहिए जिससे वे निवेश से बचे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here