कल्पना करिये उस पल जब आप अचानक चलना भूल जाये या आपको पकड़ कर रखने वाली और कभी महसूस ना होने वाली ग्रेविटी अचानक से अटपटी और महसूस होने लगे।यह सोचना जितना रोमांचकारी लग सकता है असल मे उससे कई गुना कठिन कार्य है और अगर आप भी इस प्रक्रिया का हिस्सा बनना चाहते है और गुरुत्वाकर्षण को महसूस करना चाहते है तो एक बार अंतरिक्ष की सैर कर लीजिए।परन्तु यहां मैने जितनी आसानी से अंतरिक्ष की सैर की बात कह दी ये उतनी भी आसान बात नही है और ये हम सब अच्छी तरह से जानते है।हालांकि spaceX जैसे अंतरिक्ष संगठन और एजेंसियां लगी हुई है कि जल्द अन्तरिक्ष टूर सम्भव हो सके ,पर यह ना कब सम्भव हो पायेगा और तब तक हमें शोधकर्ता अंतरिक्षयात्रियो के किस्सों के आधार पर ही अंतरिक्ष यात्रा को अनुभव करना होगा।

चूंकि अंतरिक्ष यात्रा में होने वाली रोमांच और कठिनाइयो से शायद हम सभी वाकिफ है,पर उससे भी ज्यादा परेशानी अंतरिक्ष यात्री को धरती पर वापस आने पर होती है।क्योंकि अब उसे वो ग्रेविटी जो उसे धरती पर खड़ा रखे थी महसूस होती है।अब संघर्ष थोड़ा और बढ़ जाता है क्योंकि अब आप जो काम अब तक करते थे जैसे –चलना फिरना आदि एक लम्बा समय अंतरिक्ष मे बिताने पर ये सब भूले से लगते है।

इस संघर्ष को अच्छे से समझाता है नासा के अंतरिक्ष यात्री A.J. (Drew) Feustel द्वारा ट्वीट किया उनका ये एक वीडियो।A.J 197 दिन अंतरिक्ष मे गुजारने के बाद पृथ्वी पर लौटे थे।

यह वीडियो 5 अक्टूबर को शूट किया गया है जिसमे A.J पृथ्वी पर होने वाले रोज़मर्रा कार्यो के लिए एक प्रशिक्षण क्लास लेते दिख रहे है।कमांडर A.J अंतरिक्ष मे अपने सहयात्री फ्लाइट कमांडर Ricky Arnold के साथ 197 दिन अंतराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पर रहे जिसमे इन दोनों की 6 स्पेस वॉक भी शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here